KavitaShayarShayariStatus

बैसाखी पर शायरी हिंदी में – Baisakhi Shayari in Hindi | Baisakhi Par Shayari Hindi Mein

Baisakhi Shayari in Hindi:- बैसाखी का त्यौहार काफी खास है | बैसाखी के त्यौहार पर लोग बड़े ही शानदार अंदाज में जश्न मनाते है | फसल के पकने की खुशी को लोग जश्न मनाकर सेलिब्रेट करते है | इस दिन का सिख धर्म में इसलिए भी महत्व है क्योकि संन 1699 में सिख धर्म के दसवें गुरु गोविंद सिंहजी ने खालसा पंथ की स्थापना की थी |  आज इस शुभ अवसर पर में इस पोस्ट बैसाखी पर शायरी हिंदी में, Baisakhi Shayari in Hindi, Baisakhi Par Shayari Hindi Mein शेयर कर रहा हु | जिसे आप अपने मित्रो, प्रियजनों, रिश्तेदारों व् परिवारजनों के साथ आसानी से शेयर कर सकते है | Baisakhi Par Shayari Hindi Mein   नचले गाले हमारे साथ, आई है बैसाखी खुशियों के साथ, मस्ती में झूम और खीर पूरी खा, और न कर तू दुनिया की परवाह, बैसाखी मुबारक हो। बैसाखी पर शायरी हिंदी में   सुनहरी धूप बरसात के बाद, थो

Read More
KavitaShayarShayariStatus

दीपावली पर कविता | दीवाली पर कविता – Deepawali Par Kavita in Hindi 2018

दीपावली पर कविता 2018:  इस दिन प्रभु राम (भगवान राम), माता सीता और भ्राता लक्ष्मण जी के साथ रावण का वध करके अयोध्या वापिस लोटे थे. उनके अयोध्या वापिस लोटने की ख़ुशी में अयोध्या वासियों ने उनका दीयों से स्वागत किया था तभी से दीपावली का त्यौहार मनाया जाता है. आज इस लेख में मै आप सभी के साथ दीपावली पर कविता, दीवाली पर कविता, Deepawali Par Kavita in Hindi शेयर करूंगा| परंतु अगर आप इसके विपिरिक्त दिवाली शायरी, दिवाली कोट्स अथवा दिवाली विशेस डाउनलोड करना चाहते हो तो आप नीचे दिए गये लिंक पर क्लिक करे. Deepawali Par Kavita in Hindi For Whatsapp आई दिवाली ख़ुशी मनायेंगे, मिलजुल यह त्यौहार मनायेंगे.. चोदह साल काटा वनवास, राम जी आये भक्तों के पास, खुशियों के दीप जलायेंगे, आई दिवाली ख़ुशी मनायेंगे… दिल से सारे वैर भूला कर, इक-दूजे को गले लगाकर, सब शिकवे दूर भगायेंगे, आई दिवाली ख़ुशी मनायेंगे…

Read More
Shayar

फैज़ अहमद फैज़ शायरी इन उर्दू , हिंदी – Faiz Ahmad Faiz Shayari in Hindi, Urdu

Aaj hum aapko apni post " फैज़ अहमद फैज़ शायरी इन उर्दू , हिंदी - Faiz Ahmad Faiz Shayari in Hindi, Urdu , फैज़ अहमद फैज़ शायरी इन उर्दू , Faiz Ahmad Faiz Shayari in Hindi  " ki sahayata se aap logo tak फैज़ अहमद फैज़ शायरी इन उर्दू , हिंदी pahuchane jaa rhe hai. Jinhe Aap Apne Yaar disto ke saath Jaroor Share kare. फैज़ अहमद फैज़ शायरी इन उर्दू , Faiz Ahmad Faiz Shayari in Hindi . उनका जन्म १३ फ़रवरी 1911 को लाहौर के पास सियालकोट शहर, पाकिस्तान (तत्कालीन भारत) में हुआ था। उनके पिता एक बैरिस्टर थे और उनका परिवार एक रूढ़िवादी मुस्लिम परिवार था। उनकी आरंभिक शिक्षा उर्दू, अरबी तथा फ़ारसी में हुई जिसमें क़ुरआन को कंठस्थ करना भी शामिल था। उसके बाद उन्होंने स्कॉटिश मिशन स्कूल तथा लाहौर विश्वविद्यालय से पढ़ाई की। उन्होंने अंग्रेजी (१९३३) तथा अरबी (१९३४) में ऍम॰ए॰ किया। अपने कामकाजी जीवन की शुरुआत म...

Read More
Shayar

मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – Mirza Ghalib Shayari in Hindi

Aaj hum apni post " मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी - Mirza Ghalib Shayari in Hindi  " ke madhyam se aap logo tak Mirza Ghalib Shayari in Hindi . jihe aap apne yaar dosto tatha relatedo se jarror share kare . मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी - Mirza Ghalib Shayari in Hindi . मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी गैर ले महफ़िल में बोसे जाम के हम रहें यूँ तश्ना-ऐ-लब पैगाम के खत लिखेंगे गरचे मतलब कुछ न हो हम तो आशिक़ हैं तुम्हारे नाम के इश्क़ ने “ग़ालिब” निकम्मा कर दिया वरना हम भी आदमी थे काम के Aaya Hai Be-Kasi-e-Ishq Pe Rona Ghalib, Kiske Ghar Jayega Sailab-e-Bala Mere Baad. आया है बे-कसी-ए-इश्क पे रोना ग़ालिब, किसके घर जायेगा सैलाब-ए-बला मेरे बाद। मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी इशरत-ए-क़तरा है दरिया में फ़ना हो जाना दर्द का हद से गुज़रना है दवा हो जाना Isharat-E-Qatara Hai Dariya Mein Fana Ho Jaana Dard Ka Had Se Guzarna Hai Dva

Read More